उच्चाटन प्रयोग
उच्चाटन प्रयोग के टोटके
January 31, 2024
मुंहासे
मुंहासे के ज्योतिषीय कारण
February 1, 2024
अपेंडिसाइटिस

अपेंडिसाइटिस :

अपेंडिसाइटिस में प्रदाह तथा शोध की सिथति ही अपेणिडसाइटिस कहलाती है । इस रोग पेट में तेज दर्द होता है । रोग के अन्तिम स्टेज पर यह पेट में भी फट सकता है और जान भी जा सकती है । आप्रेशन के द्वारा इसको निकलबा देना चाहिये । यह एक सफल उपचार है । रोगियों में इसके बिभिन्न प्रकार के लख्यण होते हैं । यह रोग किसी को भी हो सकता है ।
 
ज्योतिषिय सिद्धांत :
मंगल इस रोग का प्रधान कारक माना गया है । मंगल का दूषित होना, कन्या , तुला तथा बृशिचक राशियों में शनि, राहु का मंगल के साथ योग होना अपेणिडसाइटिस होने की सम्भाबना होती है । मेष लग्न, शनि, तुला लग्न तथा मकर लग्न के जातक इस रोग से अधिक पीडित होते हैं ।
 
निदान :
अनामिका में पुखराज धारण करें। लाल मूंगा गले में धारण करें । हीरा तथा माणिक्य भी अलग-अलग हाथों की अंगुलियों में धारण करें ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *