अमोघ शिव गोरख प्रयोग :
अमोघ शिव गोरख प्रयोग :
March 14, 2024
अभिचार नाशक अघोर मंत्र :
अभिचार नाशक अघोर मंत्र :
March 14, 2024
आक से वशीकरण का औघड़ प्रयोग……

आक से वशीकरण का औघड़ प्रयोग :

आक से वशीकरण : किसी दूर एकांत स्थान पर एक आक के पेड़ को खोज लें । इस आक से वशीकरण क्रिया करने केलिए आप प्रतिदिन सुबह-शाम संडास जाए और शौच क्रिया के लिए व्यवहार किया गया जल को थोड़ा सा बचा कर रखें । उस जल को आक के जड़ में डाल दें । इस आक से वशीकरण क्रिया को आप ४१ दिनों तक बिना नागा सुबह-शाम दोनों वक्त करें । बस ध्यान रखें कि कोई आपको देख ना ले । ४१वें दिन आपको एक पीर बाबा के दर्शन होंगे । वह आपसे उनको बुलाने का कारण पूछेंगे । तब आप उन्हें अपनी अभिलाषा बताकर उनसे प्रार्थना करेंगे कि आप क्या चाहते हैं । आपकी बात सुनकर पीर बाबा आपको वचन दे देंगे । अब जब भी आपको किसी को वश में करना है या अन्य कोई कार्य को सफल बनाना है तो सिर्फ दो दिन सुबह शाम को शौच क्रिया से निर्वत्त होने के बाद उस जल से इसकी जड़ में वापस डालें । पीर बाबा आपकी इच्छा की पूर्ति कर देंगें । यह एक अति ही खतरनाक एवं जटिल आक से वशीकरण टोटका है, जिसे अपनाते समय अत्यंत ही सावधानी की आवश्यकता है ।
अन्य तांत्रिक प्रयोग-
• ज्योतिष शास्त्र के मतानुसार किसी के घर के मुख्य द्वार के नजदीक या घर के सामने की तरफ यह चमत्कारी पौधा होता है तो कभी भी वह घर नकारात्मक शक्तियों से प्रभावित नहीं होता है ।
• अगर आपको कोई पुराना आक का पेड़ मिले और उसकी जड़ को आप निकालें तथा उस जड़ में अगर आपको श्री गणेश जी की प्रतिकृति निर्मित हुई हुई मिले तो उस जड़ को आप श्रद्धा भाव से जरूर ही अपने घर ले आए और अपने पूजा स्थान में स्थापित कर दें व प्रतिदिन इसकी पूजा करें । यह साधक को विशेष चमत्कारिक लाभ दिलाती है ।
• गंभीर बीमारी से ग्रसित किसी व्यक्ति को आंकड़े की जड़ को ताबीज में डालकर पहना दें, इस उपाय से उसकी रक्षा होगी । ताबीज में काले रंग के धागे को प्रयोग करें ।
• पुष्य नक्षत्र में पड़ने वाले किसी भी रविवार के दिन अरंड एवं आकड़े के पौधे के पास जाएं एवं इनकी जड़ को अपने घर में चलने का निमंत्रण दें । तत्पश्चात दोनों पौधों की जड़ को तोड़ कर घर ले आए । इसके बाद इन्हें गंगाजल से धोकर साफ व शुद्ध कर अपने पूजन के स्थान पर स्थापित कर दें । फिर सिंदूर और अन्य पूजन सामग्री से इसकी पूजा करें इस वक्त गणेश जी का “श्री गणेशाय नमः” मंत्र का जाप करें १०८ बार । आपकी सारी तकलीफ है दूर हो जाएगी तथा कभी भी कोई भी चीज की कमी महसूस नहीं होगी ।

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार – मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *