स्वर्ण मालिनी अप्सरा साधना :
स्वर्ण मालिनी अप्सरा साधना कैसे करें?
February 8, 2024
Aghori
The ‘Five M’ Aghori Concept :
February 9, 2024
इन्द्राणी अप्सरा साधना :

इन्द्राणी अप्सरा साधना :

इन्द्राणी अप्सरा : यह इन्द्राणी साधना सरल है । यह मात्र ११ दिन की साधना है । इस अप्सरा की साधना का दुरूपयोग न करें । इस अप्सरा को बिनती या प्रार्थना करके प्रसन्न किया जा सकता है । मंत्र के उचारण की शक्ति से इसे अपने समख्य अपस्थित किया जा सकता है । यह ११ दिन की साधना शुक्रबार रात्रि दस बजे के पश्चात् शुरु की जा सकती है । इस साधना से बशीकरण सम्भब है । शत्रु भी इस साधना से बशीभूत हो जाता है । इसमें ब्रह्माचर्य का पालन और सात्विकता का ध्यान रखें । साधना सम्पूर्ण होने तक एकान्त में धरती पर ही सोयें । साधना स्थल पर इत्र छिडक दें, स्थान सुगन्ध से परिपूर्ण हो । गुरू से रख्या मंत्र लेकर साधना करें ।
सामग्री : मंत्र जप हेतु माला, यंत्र, चमेली का तेल , सुगन्ध, गुलाब फूल, सफेद बस्त्र।
 
मुख पशिचम की और रखें, १ माला गुरु मंत्र जपें । लकडी के चौकी पर सफेद कपडा बिछा कर यंत्र स्थापित करें, चमेली के तेल का दीपक जलायें । थोडा तेल यंत्र पर छिदक दें । मन में कोई दुर्भाब न रखें ।
 
इन्द्राणी अप्सरा मंत्र : ॐ ह्रीं इन्द्राणी अप्सरा सिद्धि ह्रीं फट्।।
 
इस मंत्र की २१ माला प्रतिदिन ११ दिन तक जाप करें । अप्सरा के प्रत्यख्य होने पर संयम बनायें रखें और मिठाई आदि अर्पण करें । अन्त में प्रसन्न चित्त से बरदान मांग लें ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *