तीव्र दुर्गा साधना
हर मनोकामना पूर्ण और शक्ति प्राप्ति हेतु अति तीव्र दुर्गा साधना :
September 2, 2023
दुर्लभ कुलदेवी साधना :
कुलदेवी साधना कैसे करें और क्यों :
September 2, 2023
दुर्गा आराधना

राशि अनुसार मां दुर्गा की आराधना

दुर्गा आराधना : भारतीय संस्कृति में मां दुर्गा की भक्ति और श्रद्धा को जादातर देखने को मिला है । अक्सर लोग अपनी राशि और ग्रहों के प्रभाव पर निर्भर करते हैं। क्या राशिनुसार मां दुर्गा को पूजना शुभ हो सकता है ? इस दुर्गा आराधना लेख में, हम इस प्रश्न का उत्तर खोजने के लिए एक व्यापक अध्ययन करेंगे ।

जीबन में मां दुर्गा आराधना की महत्वपूर्ण भूमिका :

हिन्दू धर्म में मां दुर्गा को शक्ति की देवी के रूप में पूजा जाता है । वह नौ दिनों की दुर्गा आराधना पूजा के दौरान अपने अनुयायियों (भक्त) को सुरक्षित रखने के लिए धरापृष्ठ पर पदार्पण करते है और अपने भक्तो के दुःख कष्ट को लाघ्ब करके आशीर्वाद देती है। हिन्दू धर्म में मां दुर्गा की पूजा का बहुत महत्व है और यह जीबन में  खुशी और समृद्धि लाने का एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता  है।

वेदिक ज्योतिष में, प्रत्येक राशि को अलग-अलग ग्रहों और विशेष गुणों के साथ पूजा जाता है । यह ग्रह और गुण व्यक्ति के जीवन और धार्मिक अनुष्ठानों को प्रभावित कर सकते हैं।

ॐ अम्बे अम्बिकेम्बालिके न मा नयति कश्चन।
ससस्त्यश्वक:सुभद्रिकां काम्पिलवासिनीम।।
हेमाद्रितनयां देवीं वरदां शङ्कर प्रियाम।
लम्बोदरस्य जननीं गौरीमावाहयाम्यहम।।
नवरात्रि में भगवती महाकाली, महालक्ष्मी एवं महासरस्वती की आराधना विशेष रूप से की जाती है। इसी के साथ मां के 9 रूपों की अर्थात नवदुर्गा (नवदेवी) की आराधना भक्त करते हैं। इन नवरूप के साथ ही मां ने अनेक रूप धारण किए हैं व समय-समय पर भक्तों के मनोरथ पूर्ण किए हैं। इस वर्ष ग्रहों के परिभ्रमण को देखते हुए अपनी राशि अनुसार देवी के स्वरूप की आराधना करें जिससे कि मां की कृपा आप पर बनी रहे व आप अपने जीवन का उद्धार कर सकें।

सर्वप्रथम देवी का आवाहन करें…

“आगच्छ त्वं महादेवि, स्थाने चात्र स्थिरा भव।
यावत पूजां करिष्यामि, तावत त्वं सन्निधौ भव।।”

आवाहन के बाद आप देवी की आराधना करें।

मेष – मेष राशि के जातक के लिये मां दुर्गा के आरधना साहस और उत्साह बढ़बा देती है साथ साथ नेतृत्व की भावना भी पैदा करती  है। ऐसे लोगों को मां दुर्गा की पूजा करने से उनके जीवन में सुख और सफलता मिल सकती है। इस राशि के जातकों को माँ दुर्गा के स्कंद माता रूप को विशेष पूजा करनी चाहिए।
वृषभ – वृष राशि का जातक के लिये मां दुर्गा के आरधना जातक को बहुत धैर्यशील बनादेती है और आर्थिक स्तिति में मजबूत बनादेती है , इसलिए उनकी पूजा सुख-शांति ला सकती है। इस राशि के जातक को माँ महागौरी स्वरूप की पूजा करना बेहद फलदायी साबित होता है ।
मिथुन – मिथुन राशि जातक के लिये मां दुर्गा के आरधना से बुद्धि में बृद्धि और बे ज्ञान में बृद्धि  होता  है । इस राशि के जातक मां की ब्रह्मचारिणी रूप को विशेष पूजा करें।
कर्क – कर्क राशि जातक को माँ दुर्गा की बिशेष पूजा अनुष्ठान से आत्मबिश्वास प्राप्ति होता है , जिससे उनको हर काम में कामयाबी प्राप्त होता है इस राशि के लोग को माँ की शैलपुत्री रूप को पूजा करें।
सिंह – सिंह राशि के लोगों को मां दुर्गा की आराधना करने से उनकी नेतृत्व क्षमता में सुधार होता है। इन्हें मां कूष्मांडा की पूजा करनी चाहिए।
कन्या – इस राशि वाले मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करें ताकि माँ की कृपा से आपको अछे स्वास्थ्य और सुख-शांति मिलता रहेगा ।
तुला – तुला राशि के लोग देवी महागौरी की पूजा करें ताकि जीबन में संतान सुख प्राप्ति होगा और संतान से भरपूर सूख मिलता रहेगा
वृश्चिक – इस राशि वाले स्कंदमाता की पूजा करने से बित्तीय स्तिति में सुधार देखने को मिलता है
धनु– धनु राशि वाले मां चंद्रघंटा की पूजा करने से यात्रा में सफलता मिलती है ।
मकर – मकर राशि के जातक मां कालरात्रि की पूजा करने से कार्रिएर में सफलता प्राप्त कर सकते है
कुंभ – कुम्भ राशि के जातक माँ सिद्धिदात्री की उपासना और दुर्गा आराधना करने से उनको सामजिक सेबा में सफलता मिलती है
मीन – मीन राशि वालों को मां चंद्रघंटा की पूजा करनी चाहिए । माँ की पूजा दुर्गा आराधना से आत्मा का साक्षर होता है और आध्यत्मिक बिकास भी होता है

राशि अनुसार माँ दुर्गा आराधना करना आध्यात्मिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए शुभ हो सकता है । दुर्गा माता की पूजा और आराधना को श्रद्धा और समर्पण के साथ किया जाता है, और इससे किसी भी राशि के व्यक्ति का आध्यात्मिक विकास हो सकता है।

आप अपने आचार्य या पंडित से पूछ सकते हैं अगर आपकी राशि के अनुसार कोई विशिष्ट परंपरागत उपाय है । लेकिन विश्वास और भक्ति ही सच्चे आध्यात्मिक अनुभव का मूल होते हैं, जबकि आध्यात्मिकता और ज्योतिष व्यक्ति के आत्मविकास में मदद कर सकते हैं । आप अपनी राशि अनुसार देवी दुर्गा आराधना करें, साथ ही नवरात्रि में दुर्गा चालीसा का पाठ करें तो अत्यंत लाभ मिलेगा ।

Connect with us on our Facebook Page : Kamakhya Tantra Jyotish

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार :(MOB) 9438741641 (Call/ Whatsapp)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *