प्रेत दोष का ज्ञान
प्रेत दोष का ज्ञान:
April 12, 2023
प्रभु कृपा
प्रभु की कृपा पाने का मंत्र :
April 28, 2023
पूर्बजन्म

प्रेतबाधा से ग्रसित होना भी पूर्बजन्म के संस्कारों से होता है :

पूर्बजन्म :लग्न कुंडली में गुरु कमजोर हो, आठ्बें, बारहबें हो तो पितर दोष । राहू बुध शनि इन स्थानों में हो तो प्रेत दोष होता है । लग्न, चतुर्थ, अष्टम द्वादश नबम भाब में पाप योग से प्रेत बाधा योग बनता है । पंचमेश, लग्नेश, भाग्येश यदि छठे आठ्बे हो तो शत्रु जनित अभिचार से पीड़ा प्राप्त होता है ।

पंचम, नबम एबं लाभ स्थान में पाप ग्रह तांत्रिक उपासना कराते है । गुरु मंगल, गुरु राहु योग से अनुष्ठान कर्म में त्रुष्टि होने से पीड़ा योग बनता है । मंगल राहू योग में भैरब उपासना द्वारा ही प्रेत उपद्र्ब से मुक्ति मिलेगी । देबि उपासना में भिन्न ग्रहों के योग भिन्न देबि साधना करने से लाभ मिलता है ।

Our Facebook Page Link

तंत्राचार्य प्रदीप कुमार – 9438741641 (Call /Whatsapp)
हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *