स्वप्न विचार
यश,पदोन्नति एवं ज्ञान प्राप्ति सम्बन्धी स्वप्न विचार :
March 25, 2024
आओ जाने अपनी जन्मकुंडली से प्रेम भाव का फल :
आओ जाने अपनी जन्मकुंडली से प्रेम भाव का फल :
March 25, 2024
मृत्यु योग

जन्मकुंडली से मृत्यु योग कैसे देखें ?

मृत्यु योग : ज्योतिषशास्त्र के द्वारा जन्मकुंडली में बने सत्य घटना मृत्यु योग के बारे में सभी लोग जानते होंगे की जिसने जन्म लिया है उसकी मृत्यु योग निश्चित ही है । मृत्यु योग को कोई न रोक सकता न कोई टाल सकता है जो जन्मा है तो उसका मरना भी लिखा है ।
हमारे प्राचीन ऋषि-महर्षियों ने ज्योतिष की गणना के आधार पर जीवन और मृत्यु योग के बारे में अनेक योग बताएं हैं जसके आधार पर मृत्यु कैसे होगी किस प्रकार से होगी । परन्तु आज हम मृत्यु योग के अनेक योगों में से एक विशेष योग पर ही चर्चा करेंगे ।

जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी के नवांश से मृत्यु योग का ज्ञान:-

जन्म कुंडली में लग्न चक्र और नवांश को देखकर यह बताया जा सकता है की मृत्यु कैसे होगी ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश मेष हो तो पित्तदोष, पीलिया, ज्वर, जठराग्नि आदि से संबंधित बीमारी से मृत्यु होती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश वृष हो तो एपेंडिसाइटिस, शूल या दमा आदि से मृत्यु होती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश मिथुन हो तो मेनिन्जाइटिस, सिर शूल, दमा आदि से मृत्यु होती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश कर्क हो तो वात रोग से मृत्यु हो सकती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश सिंह हो तो व्रण, हथियार या अम्ल से अथवा अफीम, मय आदि के सेवन से मृत्यु होती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश कन्या हो तो जातक बवासीर, मस्से आदि रोग से मृत्यु होती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश तुला राशि हो तो जातक घुटने तथा जोड़ों के दर्द अथवा किसी जानवर के आक्रमण चतुष्पद (पशु) के कारण मृत्यु होती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश वृश्चिक राशि हो तो संग्रहणी,यक्ष्मा आदि से मृत्यु होती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश धनु हो तो जातक विष ज्वर, गठिया आदि के कारण मृत्यु हो सकती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश मकर राशि हो तो अजीर्ण, अथवा, पेट की किसी अन्य व्याधि से मृत्यु हो सकती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश कुंभ राशि हो तो जातक श्वास संबंधी रोग, क्षय, भीषण ताप, लू आदि से मृत्यु हो सकती है ।
जन्मकुंडली में लग्न के स्वामी का नवांश मीन हो तो जातक की धातु रोग, बवासीर, भगंदर, प्रमेह, गर्भाशय के कैंसर आदि से मृत्यु होती है ।

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार : 9937207157/ 9438741641 (call/ whatsapp)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *