शनि दोषयुक्त हो तो
कुंडली में शनि दोषयुक्त हो तो
April 27, 2024
अंगों के स्फुरण से मिलते हैं भविष्य के संकेत :
अंगों के स्फुरण से मिलते हैं भविष्य के संकेत
April 27, 2024

जानिए शनिदेव से जुड़े कुछ अचूक उपाय और मंत्र…

शनिदेव बीज मंत्र (एकाक्षरी )- ‘ॐ शं शनैश्चराय नम: ।’
तांत्रिक मंत्र- ‘ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनये नम: ।
जप संख्या- 23,000 (23 हजार)।
(कलियुग में 4 गुना जाप एवं दशांश हवन का विधान है ।)
दान सामग्री- काला वस्त्र, उड़द, काले तिल, अनेक प्रकार के सुगंधित तेल, लोहा, छाता, चमड़ा, नीलम, काला पुष्प, कंबल ।
(उक्त सामग्री को वस्त्र में बांधकर उसकी पोटली बनाएं तत्पश्चात उसे मंदिर में अर्पण करें अथवा बहते जल में प्रवाहित करें।)
दान का समय- दोपहर ।
हवन हेतु समिधा- शमी ।
औषधि स्नान- सौंफ, खस, सुरमा, काले तिल मिश्रित जल से ।

अशुभ प्रभाव कम करने हेतु अन्य उपयोगी शनिदेव उपाय :

* शनिवार को छाया दान करें । (लोहे की कटोरी में तेल भरकर उसमें अपना मुख देखकर उस तेल को कटोरी सहित दान करें।)
* 7 शनिवार 7 बादाम मंदिर में दान करें ।
* शनिवार को किसी लंगर या सदाव्रत में कोयला दान करें ।
* सवा किलो काले चने, सवा किलो उड़द, 60 ग्राम कालीमिर्च, 250 ग्राम कोयला, चमड़े का टुकड़ा काले वस्त्र में बांधकर शनि से पीड़ित व्यक्ति के ऊपर से उतारकर भूमि में दबा दें या बहते जल में प्रवाहित कर दें ।
* नारियल के गोले में छेद कर उसमें घी, आटा व शकर भरकर किसी पीपल के वृक्ष के समीप या किसी अन्य जगह भूमि में दबा दें, जहां चींटियां हों ।
* शनि यंत्र को लोहे के पत्र पर उत्कीर्ण करवाकर नित्य पूजा कर

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार :9438741641/ 9937207157 (call/ whatsapp)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *