शुक्र का प्रभाब
बिभिन्न भाबों में शुक्र का प्रभाब :
December 30, 2022
राहु का प्रभाब
बिभिन्न भाबों में राहु का प्रभाब :
December 30, 2022
शनि का प्रभाब

बिभिन्न भाबों में शनि का प्रभाब :

शनि का प्रभाब…

१. प्रथम भाब में शनि का प्रभाब सेब्यक्ति को कामी, दरिद्र तथा कुरूप बनाता है । परन्तु शुभ राशि में अथबा बलबान हो तो रूप, धन तथा गुणसंम्पन्न बनाता है ।

२. द्वित्तीय भाब के शनि का प्रभाब से ब्यक्ति को उनके माता तथा भाईयों से बियोग करबाता है । परन्तु धन सम्बन्धी बिषयों के लिए शनि यँहा शुभ है ।

३. तृतीय भाबगत शनि का प्रभाब ब्यक्ति को  बुद्धि, साहस तथा स्वास्थ्य देता है । यँहा शनि भाई – बहनों से मतभेद कराबाता है ।

४. चतुर्थ भाब में शनि का प्रभाब से आदमी को रोगी, दुखी तथा मानसिक संत्रास देने बाली सिद्ध होती है ।

५. पंचम भाब का शनि का प्रभाब से ब्यक्ति को आलसी, चंचल तथा भ्रमणशील बनाता है । यह प्राय: उदर रोगी होते है ।

६. षष्टम् भाब में शनि साहसी बनाता है । परन्तु स्वास्थ्य तथा मातृसुख के लिए यह स्थिति प्रतिकूल है ।

७. सप्तम भाब का शनि कामी तथा नीच कर्मो में लिप्त रखता है । ब्यक्ति का बिबाह बिलम्ब से करबाता है ।

८. अष्टम में शनि गुप्त रोग देता है । यह दीर्घायु देता है तथा दुर्घटना का कारक है ।

९. नबम भाब में शनि बलबान तथा संत प्रबृति का बनाता है । भ्रात सुख से यह शनि बंचित रखता है ।

१०. दशम भाब गत शनि राजसुख, भाग्य तथा पितृसुख से परिपूर्ण रखता है परन्तु जीबन साथी से मानसिक संत्रास दिलबाता है ।

११. एकादश भाब में शनि होने से ब्यक्ति स्वास्थ्य तथा बुद्धि का धनी होता है । परन्तु यँहा शनि मातृ, पत्नी, उदर रोग आदि से कष्ट देता है ।

१२. द्वादश भाब में शनि की स्थिति नेत्र रोग, आलस्य, शत्रुभय, कलेश देता है । ऐसे ब्यक्ति अपनी भाषा –ब्यबहार से सदैब कष्ट उठाते हैं ।

Our Facebook Page Link

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार
हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *