पुष्प किन्नरी साधना
पुष्प किन्नरी साधना क्या है?
February 7, 2024
रिक्त्या भैरु की साबर मंत्र साधना :
रिक्त्या भैरु की साबर मंत्र साधना :
February 7, 2024
सुभगा किन्नरी साधना

सुभगा किन्नरी साधना :

सुभगा किन्नरी का प्राचीन ग्रन्थों में बहुत कम बर्णन मिलता है । प्राचीन शास्त्र में एक स्थान पर उन्म्त्त भैरब जी से भैरबी प्रश्न करती हैं कि सभी साधनाओं के अतिरिक्त किन्नरी साधना के बारे में भी बतायें । तब भैरब जी कहते है- देबी ! ये गोपनीय साधना है, किन्तु सरलता से सिद्ध होने बाली है, यदि पुरूष में आत्मबल है तो बह अबश्य इसे सिद्ध कर लेता है । जिस प्रकार कुबेर राज के दरबार में किन्नरीयां उपस्थित रहती है, उसी प्रकार सिद्ध होने के पश्चात यह सुभगा किन्नरी साधक की सेबा हेतु सदैब न्यौछाबर रहती है । यह किन्नरी पुरूष और स्त्री दोनों रूपों में रहती है, अत: पुरूष या स्त्री साधक दोनों इसे सिद्ध कर सकते हैं ।
 
भगबान शिब के अनुसार सुभगा की सिद्धि हेतु साधक को निराहार रहकर मात्र जल सेबन से निरन्तर तीन दिन साधना करनी होती है । इस हेतु निर्जन बन का ही चुनाब करें । रात्रि के नौ बजे के पश्चात् यह साधना आरम्भ करें । यह प्रक्रिया प्रतिरात्रि मे तीन दिन तक करें । किसी भी शुभ नक्ष्यत्र में इसे प्रारम्भ करें । प्रतिरात्रि १०,००० बार इस मंत्र का जाप करें ।
 
सुभगा किन्नरी मंत्र : ॐ क्लीं सुभगे किन्नरी स्वाहा।।
 
इसके पश्चात् दशांश हबन करें, तभी साधना पूर्ण होगी । साधना सम्पूर्ण होने पर किन्नरी प्रकट होगी और बह प्रेमिका या मित्र रूप में साधक को सिद्ध होगी । सिद्ध होने पर नित्य बह साधक को स्वर्णमुद्रा प्राप्ति के मार्ग बताती है । यह साधना गोपनीय रखें, किसी को भी न बतायें । सिद्धि प्राप्ति हो जाने पर भी अति गोपनीय तरीके से सिद्धि का प्रयोग करें ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *