व्यक्तित्व
महिलाओं के शरीर के अंगों का व्यक्तित्व के बारे में क्या बताते हैं :
February 8, 2024
इन्द्राणी अप्सरा साधना :
इन्द्राणी अप्सरा साधना कैसे करें?
February 9, 2024

स्वर्ण मालिनी अप्सरा साधना :

स्वर्ण मालिनी अप्सरा : यह अप्सरा अपने नाम के अनुरूप ही सोने जैसी काया बाली है । यह गुप्त अप्सरा स्वर्ण मालिनी के नाम से प्राचीन तंत्र शात्रों में बर्णित है । इस अप्सरा का शरीर और चेहरा स्वर्ण जैसी कांति से चमकदार होता है । स्वर्ण के सुन्दर आभूषण इसके शरीर पर सुशोभित रहते हैं । प्रसन्न होने पर यह साधक को स्वर्णाभूषण भी प्रदान करती है, बह स्वर्णादि सामग्री सदैब संभाल कर रखें ।
 
इसकी साधना अत्यन्त सरल है, इसमें अति बिशिष्ट किसी नियम की आबश्यकता नहीं पडती । साधना हेतु अप्सरा का मुख्य मंत्र इस प्रकार है-
स्वर्ण मालिनी अप्सरा मंत्र : ॐ श्रीं स्वर्णमालिनी कनकप्रिये श्रीं हुं फट्।।
 
इस मंत्र का प्रतिदिन हकीक की माला से २१ माला जाप करें । गुरुबार के दिन ही यह साधना प्रारम्भ करें । यह साधना शुरू करने के तीन दिन पहले से ही सात्विक भोजन ब शुध बिहार रखें । मिथ्या बचन न बोलें । महादेब का पूजन करते रहें, तत्पशाचत ही यह स्वर्ण मालिनी अप्सरा साधना शुरू करें । यह साधना गुप्त रखे, किसी को भी न बतायें । यह अप्सरा अत्यंन्त कोमल होती है । यदि यह साधना गोपनीय न रहे, तो सिद्धि मिलना असम्भब है । इस साधना का रहस्य ब गोपनीयता स्वयं तक ही सीमित रखें । तन और मन से शुध रहकर ही यह साधना करें । किसी भी प्रकार तामसिक बृतियों का त्याग करें और श्वेत रंग का प्रयोग अधिकाधिक करें । साधना काल मंप प्रतिदिन यदि किसी षोडषी किशोरी को सफेद बस्त्र और सफेद मिठाई देकर प्रसन्न करें, तो उत्तम है ।
 
सात दिबस तक यह साधना ब मंत्र जप निरन्तर करें । स्वर्ण माला प्रत्यख्य होने पर अत्यन्त कोमलबाणी में साधक को बचन देती है, किसी भी बाधा के समय प्रकट होने का रहस्यमयी मंत्र उनसे बचन रूप में प्राप्त कर लें ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *