2025 अक्षय तृतीया पर करे श्री सूक्तम प्रयोग

2025 Akshay Tritiiya Par Kare Shri Suktam Prayog :

अक्षय तृतीया (Akshay Tritiiya), इस वर्ष 30 अप्रैल 2025 (बुधबार) को पड़ता है । इसके महत्व के साथ, यह रोहिणी नक्षत्र के साथ आता है, जो शास्त्रों के अनुसार एक भाग्यशाली सितारा माना जाता है ।
 
अक्षय तृतीया (Akshay Tritiiya) को कुछ भी नया शुरू करने के लिए एक बेहद आशाजनक दिन माना जाता है । लोग घर पर विशेष प्रार्थना करते हैं और सोना, चांदी और कीमती सामान भी खरीदते हैं क्योंकि यह माना जाता है की ऐसा करने से सौभाग्य आता है ।
 
संस्कृत शब्द अक्षय का अर्थ है ‘अंतहीन’। हिंदू धर्म ग्रंथों में अक्षय तृतीया (Akshay Tritiiya) के संदर्भ हैं । कुछ अच्छी पुस्तकों का मानना है कि सत युग और त्रेता युग की शुरुआत इसी दिन हुई थी ।
 
भगवान गणेश ने इस दिन महाकाव्य ‘महाभारत’ की रचना शुरू की । अक्षय तृतीया के दिन, भगवान कृष्ण ने अपने मित्र सुदामा को समृद्धि और धन के साथ इश्वर्य लाभ दिया । यह दिन भगवान विष्णु के छठे अवतार भगवान परशुराम की जयंती भी है । इस दिन पृथ्वी पर पवित्र नदी गंगा का अवतरण भी हुआ ।
प्रसाद :कुमकुम , अभिमंत्रित श्रीयंत्र ,कलावा ।
 
प्रयोगः-
1) श्री-सूक्त के १५ मन्त्रों और उपर्युक्त ३२ नामों से प्रति-दिन ‘घी’ से हवन करने पर ६ मास में भगवती लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है ।
 
2) शुक्ल-पक्ष की प्रतिपदा से प्रारम्भ करके प्रति-दिन “कांसोस्मीति॰” इस ऋचा का एक सौ आठ बार जप करके घी से ग्यारह बार हवन करें । इस प्रयोग से ६ मास में सम्पदा की प्राप्ति होती है ।
 
3) स्नान के समय श्री-सूक्त के मन्त्रों से जल-ग्रहण करे । उस जल को तीन बार अभिमन्त्रित करके उससे तीन बार अपना अभिषिञ्चन करे । फिर सूर्य की ओर मुँह करके तीन बार श्री-सूक्त का तीन बार जप करे । फिर तीन बार तर्पण करे । सूर्य-नारायण की पूजा करके हविष्यान्न से प्रतिदिन हवन करे । ६ मास में लक्ष्मी की प्राप्ति होती है ।
 
4) प्रत्येक शुक्रवार को १०८ अधखिले कमल लाकर उनमें नवनीत (मक्खन) भरे । अन्तिम ऋचा का पाठ करते हुए इन कमलों से हवन करे । ४४ शुक्रवार तक यह प्रयोग करने से चञ्चला लक्ष्मी अचञ्चला हो जाती है ।
 
विधि-निषेध
पुरश्चरण प्रयोग-काल में साधक शुद्ध श्वेत वस्त्र धारण करे । शरीर पर हल्दी का लेप न लगाए । द्रोण पुष्प, कमल, बिल्व-पुष्प धारण न करे । नग्न होकर जल में प्रवेश न करे । शुद्ध शय्या पर शयन करे । उच्छिष्ट मुँह और तेल लगाकर जप/पूजा न करे । नीच व्यक्तियों का स्पर्श/ सम्पर्क न करे ।
 
• दीर्घायु, स्वास्थ्य, धन और समृद्धि की प्राप्ति होती है।
• सभी बाधाओं को दूर करने में सहायता प्राप्त होती है ।
• व्यापार में विकास होता है ।
• प्रगति के मार्ग प्रशस्त होते है ।
To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :
ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार: 9438741641 /9937207157 (call/ whatsapp)

Leave a Comment