भोजपत्र के तांत्रिक प्रयोग

Bhojpatra ke Tantrik Prayog :

1. भोजपत्र  (bhojpatra) की टहनियों की धूप से भूत-प्रेत, जिन्नादि भाग जाते है । मंत्रोचार करते हुए ढीले बस्त्रो में रोगी को एसे बैठायें कि सारे शरीर पर धुआं लगे ।
 
2. भोजपत्र पर बिषणु, मोहिनी, तुलसि, बशीकरण, आकर्षण आदि से सम्बन्धित मंत्र लिखकर सिद्ध करके पहनने से बांछित फल की प्राप्ति होति है ।
 
3. भूर्जपत्र की जड, अनार की जड, सहदेई की जड, शेवतार्क की जड और गुंजा की जड को पीस-घोटकर गोरोचन के साथ तिलक करने से इतना सशक्त बशिकरण होता है की प्राणों का दुशमन भि दास बन जाये ।
To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :
ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार (मो.) 9438741641 / 9937207157 {Call / Whatsapp}
जय माँ कामाख्या

Leave a Comment