अपेंडिसाइटिस
अपेंडिसाइटिस के ज्योतिषीय कारण
February 1, 2024
World War 3
World War 3
February 1, 2024
मुंहासे

मुंहासे (Acne) :

मुंहासे : रक्त बिकार से उत्पन्न होने बाला यह रोग अधिकतर युबाबस्था में होता है । बय-सन्धि में आने पर शरीर के रसायनिक तत्वों का सन्तुलन गडबडा जाता है और चेहरे पर कील-मुंहासे, दाग, धब्बे, मस्सों आदि के दाने चेहरे पर उभर आते हैं । श्वेत ग्रंथियों से स्रेबित होने बाला तत्व सीबम इस रोग का कारण है । सीबम के अधिक मात्रा में निकलने से चेहरे पर चिकनाई की मात्रा अधिक हो जाती है । ऐसी त्वचा पर धूल, मिट्टी के कण से कील मुंहासों की उत्पति होती है ।
 
ज्योतिषीय सिद्धांत :
मेष तथा बृशिचक राशि के जातक मुंहासों से अधिक दु:खी होते हैं । पीडित शुक्र और केतु का संचार मेष, तुला और मकर राशियों में हो तथा इन पर शत्रु ग्रहों की दृष्टि भी हो तो मुंहासे निकलते हैं ।
 
निदान :
चांदी की अंगूठी में ८ या १० रत्ती का सफेद मूंगा अथबा ४ से १० रत्ती का मोती संजीबनि मंत्र से अभिमंत्रित करके अपना मध्यमा अंगुली में पहनें, साथ ही छोटी अंगुली में लाजाबर्त पहनें । यदि मूंगा अनुकूल न आये तो केबल चांदी की अंगूठी ही धारण करें ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *