काल भैरव को प्रसन्न करने हेतु सरल व संशिप्त साधना विधि :

काल भैरव को प्रसन्न करने हेतु सरल व संशिप्त साधना विधि :
 
भगवान शिव के रूद्र रूप कहे जाने वाले भैरव जी को वर्तमान समय में काल भैरव और बटुक भैरव के रूप में अधिक पूजा जाता है | जहाँ भैरव जी को बटुक भैरव के रूप में सौम्य और सात्विक माना गया है | वहीं काल भैरव के रूप में भैरव जी को उग्र और सभी तंत्र क्रियाओं के प्रमुख देव के रूप में पूजा जाता है | काल भैरव मंत्र साधना आपके सभी दुखों को दूर कर आपको सभी प्रकार के सुख-सम्रद्धि से परिपूर्ण करने वाली है |
काल भैरव उपासना : –
कलियुग के समय में काल भैरव की उपासना शीघ्र फल प्रदान करने वाली है | शास्त्रों में वर्णित है कि कलियुग के समय में भैरव जी , हनुमान जी व माँ काली की उपासना अन्य सभी देवों से शीघ्र फल प्रदान करने वाली होगी | काल भैरव के भक्त अपनी-अपनी श्रद्धा अनुसार उनकी उपासना करते है | आइये जानते है काल भैरव को प्रसन्न करने हेतु उनके भक्त किस प्रकार से उनकी पूजा करते है :
o काल भैरव की उपासना में रविवार का दिन अति शुभ माना गया है | इसके अतिरिक्त उनकी उपासना शनिवार के दिन भी की जा सकती है |
o काले कुत्ते को काल भैरव का वाहन कहा गया है | इसलिए शनिवार के दिन काले कुत्ते को गुलगुले बनाकर खिलाने से भी भैरव शीघ्र प्रसन्न होते है |
o कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को काल भैरव अष्टमी के नाम से जाना जाता है | शास्त्रों के अनुसार भैरव का जन्म इसी अष्टमी को हुआ | इस दिन भैरव उपासना करने से जीवन में आने वाले सभी कष्ट दूर होते है | भैरव अष्टमी के दिन भैरव मंदिर में उनके दर्शन अवश्य करने चाहिए |
o काल भैरव मंत्र साधना व उनके विशेष पूजा-पाठ को रात्रि में संपन्न करने का विधान है |
o काल भैरव को उनके मंदिर में सरसों का तेल व सिन्दूर चढ़ाया जाता है साथ में मदिरा द्वारा भोग भी लगाया जाता है |
काल भैरव मंत्र साधना :
काल भैरव मंत्र : “ ॐ हं षं नं गं कं सं खं महाकाल भैरवाय नम: ”
साधना विधि : – रविवार की रात से इस काल भैरव साधना की शुरुआत करें | रात्रि को एक समय और एक स्थान सुनिश्चित कर प्रतिदिन मंत्र जप का द्रढ़ संकल्प लेकर अपनी साधना शुरू करें |
पूर्व दिशा में एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर उस पर काल भैरव की फोटो की स्थापना करें | ईशान कोण में सरसों के तेल का दीपक जलाये | और सामने लाल आसन बिछाकर बैठ जाये | अब आप हाथ में थोडा जल लेकर संकल्प ले व मंत्र जप शुरू करें | 41 दिन तक लगातार इस साधना को करें | 41 दिनों के पश्चात् जितने मंत्र जप आपने इन दिनों में किये है उनके दशांश भाग से आहुति देकर हवन करें |
साधना व मंत्र सिद्धि में ध्यान देने योग्य जरुरी बातें :
काल भैरव मंत्र साधना करने वाले साधक से सभी पीडाएं – बाधाएं व सभी प्रकार की नकारात्मक शक्तियां दूर होने लगती है | इस साधना को करने वाला साधक सभी प्रकार के सांसारिक दुखों से छुटकारा पाता है | भारत में काशी व उज्जैन में काल भैरव का सिद्ध स्थान है जहाँ भैरव अष्टमी को भैरव जी के दर्शन करना धार्मिक द्रष्टि से बहुत महत्व रखता है |
 
 
To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :
ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार : मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}
जय माँ कामाख्या

Leave a Comment